RSS Full Form In Hindi | आरएसएस फुल फॉर्म क्या होता है?

RSS Full Form In Hindi : आप सभी को Mybesttop.com वेबसाइट में स्वगात है। यहाँ इस लेख में आप लोगों को पता चलेगा कि आर एस एस क्या हैआरएसएस फुल फॉर्म क्या है (RSS Full Form In Hindi) इसके साथ ही आप लोगों को RSS से जुडी सभी जरूरी जानकारियों के बारे में भी बताऊंगा। इसलिए आप इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

RSS Full Form – आरएसएस फुल फॉर्म क्या होता है?

यदि हम आर एस एस के फुल फॉर्म की बात करें तो, RSS का Full Form “Rashtriya Swayamsevak Sangh” होता है।

RSS Full Form in Hindi

आर एस एस को हिन्दी में  “राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ” के नाम से जाना जाता है। यह एक गैर सरकारी भारतीय संगठन है। यह एक हिन्दू राष्ट्रवादी संगठन है।

आर एस एस का इतिहास – History of RSS

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना 27 सितंबर 1925 को विजय दशमी के दिन 4 लोगों की शाखा “डॉ. केशवराव बलिराम हेडगेवार “विजय दशमी हमारे देश में बड़े उल्लास के साथ मनाई जाती है और आज यह संघ दुनिया के सबसे बड़े संघ के रूप में फैला और जाना जाता है। आरएसएस का मुख्यालय नागपुर, महाराष्ट्र में है।

50 वर्षों के बाद वर्ष 1975 में पूरे देश में आपातकाल घोषित कर दिया गया, उस समय संघ के सभी अधिकारियों और कार्यकर्ताओं के एकजुट होने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था।

जैसे ही आपातकाल हटाया गया, यह संघ भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गया और केंद्र में “मोरारजी देसाई” के प्रतिनिधित्व के तहत एक गठबंधन सरकार बनाई गई। 1975 के बाद धीरे-धीरे इसका राजनीतिक महत्व बढ़ता गया और इसका झुकाव भारतीय जनता पार्टी जैसे राजनीतिक दल के रूप में हुआ।

प्रारंभ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने भारत के राष्ट्रीय ध्वज को स्वीकार करने से इनकार कर दिया। संघ ने अपने मुखपत्र संस्थापक दिनांक 17 जुलाई 1947 को “राष्ट्रीय ध्वज” शीर्षक वाले संपादकीय में “भगवा ध्वज” को राष्ट्रीय ध्वज के रूप में मांग की और स्वीकार किया।

यह भी जानें: भारत में कितने राज्य हैं?

आर एस एस क्या है – RSS Kya Hai

RSS दुनिया का सबसे बड़ा स्वैच्छिक संगठन है। आरएसएस एक अभियान और एक स्वयंसेवी मंच है जिसका उद्देश्य देश में सामाजिक, आर्थिक, नागरिक, पर्यावरण और अन्य चुनौतियों का समाधान करना है। इसके द्वारा किए गए कार्य गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, स्वास्थ्य, व्यावसायिक प्रशिक्षण, नागरिक मुद्दों, पर्यावरण, ग्रामीण विकास, गौ रक्षा, सांस्कृतिक और साहित्यिक विकास और सड़कों से संबंधित हैं। यह इन कार्यों के लिए नई योजनाएं तैयार करता है और उन्हें लागू करने का प्रयास करता है।

आरएसएस के माध्यम से देश हित में कार्य किए जाते हैं। जब भारत सरकार देश के हित में कोई महत्वपूर्ण निर्णय लेती है तो वह हमेशा सरकार के पक्ष में रहती है और यदि वह देश के हित में नहीं है तो वह सरकार का पूरा विरोध करती है। इसका उद्देश्य दुनिया भर के हिंदुओं को सम्मानजनक जीवन जीने के लिए पर्याप्त अधिकार प्रदान करना है।

आरएसएस से कैसे जुड़े – RSS Kaise Join Kare

RSS में शामिल होने के लिए किसी भी प्रकार की कोई औपचारिक सदस्यता नहीं है। आरएसएस 18 साल से कम उम्र के बच्चों में अपने विचारों और देश भावना को भरने के लिए बाल भारती और बालगोकुल कार्यक्रम चला रहा है। अपने संघ की ओर आकर्षित करने के लिए कार्यक्रम चला रहे हैं।

अगर आप इस यूनियन से जुड़ना चाहते हैं या इसमें काम करना चाहते हैं तो इसके लिए आप यूनियन की दैनिक, साप्ताहिक या मासिक गतिविधियों में भाग लेकर इसका हिस्सा बन सकते हैं, इसकी शाखा आपको हर क्षेत्र, विभाग, जिले तक पहुंच प्रदान करेगी। इसमें संघ मंडल के सभी स्तरों की बैठक होती है, जिसमें कार्यकर्ता व्यायाम, खेलकूद, सूर्य नमस्कार, समता (परेड), गीत, भजन आदि करते हैं।

आरएसएस के फायदे – RSS Ke Fayde

  • इससे आप जातिगत भेदभाव भूल जाएंगे।
  • आप सीखेंगे कि प्राकृतिक आपदाओं में लोगों की मदद कैसे करें।
  • आप लोगों को अपनी महान संस्कृति और इतिहास पर गर्व होगा।
  • आपका रोल मॉडल बॉलीवुड सेलिब्रिटी से फ्री फाइटर बन जाएगा।
  • अगर आप रोजाना आरएसएस की शाखा में जा रहे हैं तो आप रोज नए लोगों से मिलेंगे।
  • आरएसएस में रोजाना व्यायाम करने से आपका शरीर स्वस्थ रहेगा।
  • RSS से जुड़ने से आपमें राष्ट्रवाद और देशभक्ति की भावना जागृत होती है।

Conclusion

आपको RSS Full Form की जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट्स बॉक्स में लिखकर जरूर बतायें। यदि फिर भी आपका कोई सवाल या कोई संदेह है, तो वह भी बतायें हम उसे हल करने की पूरी कोशिश करेंगे और वह जानकारी आप तक पहुंचायेंगे। इसी के साथ इस लेख को ज्यादा से ज्यादा उन लोगों के साथ share कीजिये। जो लोग RSS Full Form In Hindi | आरएसएस फुल फॉर्म क्या होता है? के बारे में नहीं जानतें हैं। धन्यवाद!

Leave a Comment