टेलीफोन का आविष्कार किसने किया? जाने पूरी जानकारी हिंदी में

दोस्तों क्या आप लोगों ने टेलीफोन का नाम तो जरूर सुना होगा, लेकिन क्या आप लोगों को टेलीफोन के बारे में पता है, कि Telephone Ka Avishkar Kisne Kiya | टेलीफोन का आविष्कार किसने किया और Telephone क्या होता है? यदि इसके बारे में आप लोगों को नहीं पता है तो आप लोग इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें। जिससे आप लोगों को Telephone के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।

आज हम जिस स्मार्टफोन और मोबाइल का इस्तेमाल कर रहे हैं, वह कभी टेलीफोन का ही एक रूप था। समय के साथ बदलाव बदले और हमें पता ही नहीं चला कि हम फोन के जमाने से स्मार्टफोन के जमाने में कब आ गए। इस सफर में हमने एक साथ काफी कुछ बदलते देखा लेकिन एक चीज जो अभी भी सामान्य है वह है इसका मुख्य काम। टेलीफोन और स्मार्टफोन दोनों का मुख्य काम नेटवर्क की मदद से एक आदमी को दूसरे से जोड़ना है, चाहे हम एक-दूसरे से कितनी ही दूर क्यों न हों।

यह भी जानें:- GPS क्या है और GPS Full Form in Hindi

हालांकि, टेलीफोन और स्मार्टफोन में काफी बदलाव देखने को मिले हैं जिसकी किसी ने भी टेलीफोन युग में कल्पना नहीं की होगी। स्मार्टफोन की मदद से हम एक-दूसरे से बात करने के अलावा और भी बहुत कुछ कर सकते हैं जैसे गेम खेलना, इंटरनेट खेलना, फोटो और वीडियो मैसेज भेजना, वीडियो कॉल करना, गाने सुनना, फिल्में आप देख सकते हैं, स्मार्टफोन पर सोशल मीडिया का भी इस्तेमाल किया जा सकता है , जो टेलीफोन पर कभी संभव नहीं था। लेकिन उत्पत्ति टेलीफोन से ही हुई थी, इसलिए हमें पता होना चाहिए कि Telephone Ka Avishkar Kisne Kiya | टेलीफोन का आविष्कार किसने किया था।

टेलीफोन क्या है?

Telephone एक ऐसा उपकरण है जिसकी मदद से दो या दो से अधिक लोग दुनिया के अलग-अलग देशों में बैठकर भी एक-दूसरे से बात कर सकते हैं। सरल भाषा में कहें तो ‘टेलीफोन‘ एक दूरसंचार उपकरण है जिसकी मदद से दो या दो से अधिक लोग एक दूसरे से दूर रहते हुए एक दूसरे से बात कर सकते हैं।

Telephone Meaning in hindi

टेलीफोन को हिंदी में दूरभाष या दूरभाषी यंत्र कहते हैं।

Telephone Ka Avishkar Kisne Kiya – टेलीफोन का आविष्कार किसने किया

टेलीफोन का आविष्कार 1876 में अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने किया था। इसके बाद 7 मार्च 1876 को ग्राहम बेल ने अपने टेलीफोन के आविष्कार का पेटेंट कराया ताकि कोई दूसरा वैज्ञानिक उनके आविष्कार को चुरा न सके। इस खोज में थॉमस वाटसन नाम के उनके एक सहायक ने उनकी मदद की। ग्राहम बेल ने अपने सहायक से जो पहला शब्द बोला वह था “मिस्टर वाटसन, यहाँ आओ, मैं तुम्हें देखना चाहता हूँ” जिसका अर्थ है “मिस्टर वाटसन, यहाँ आओ, मैं तुम्हें देखना चाहता हूँ”। यह आविष्कार धीरे-धीरे अमेरिका में फैलने लगा और 1880 तक अमेरिका में 49,000 से ज्यादा टेलीफोन लग चुके थे, जो ग्राहम बेल के लिए एक बड़ी उपलब्धि थी।

टेलीफोन के आविष्कारक के बारे में

वैज्ञानिक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल का जन्म 3 मार्च 1847 को स्कॉटलैंड में हुआ था। ग्राहम बेल के पिता एक प्रोफेसर थे जबकि उनकी माँ एक गृहिणी थीं। ग्राहम बेल की माँ और पत्नी दोनों बहरे थे, शायद इसका कारण यह था कि ग्राहम बेल को ध्वनिविज्ञान में इतनी दिलचस्पी थी। उन्होंने टेलीफोन के आविष्कार के बाद ही प्रसिद्धि प्राप्त की लेकिन उनके अन्य आविष्कारों में मेटल डिटेक्टर, ऑडियोमीटर, फोटोफोन, हाइड्रोफिल और एयरोनॉटिक्स शामिल थे। 2 अगस्त 1922 को मधुमेह से उनकी मृत्यु हो गई।

टेलीफोन का आविष्कार कब हुआ था?

Telephone का आविष्कार 2 जून 1875 को स्कॉटिश वैज्ञानिक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने किया था। अलेक्जेंडर प्लैनेट बेल ने टेलीफोन के आविष्कार में टॉमस वॉटसन की मदद ली।

इसके बाद अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने 7 मार्च, 1876 को इसका पेटेंट कराया। यानी इस दिन वैज्ञानिक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल आधिकारिक तौर पर टेलीफोन के आविष्कारक बने।

Conclusion

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट्स बॉक्स में लिखकर जरूर बतायें। यदि फिर भी आपका कोई सवाल या कोई संदेह है, तो वह भी बतायें हम उसे हल करने की पूरी कोशिश करेंगे और वह जानकारी आप तक पहुंचायेंगे। इसी के साथ इस लेख को ज्यादा से ज्यादा उन लोगों के साथ share कीजिये। जो लोग Telephone Ka Avishkar Kisne Kiya | टेलीफोन का आविष्कार किसने किया के बारे में नहीं जानतें हैं। धन्यवाद!

Leave a Comment