Artificial Intelligence क्या है? जानें पूरी जानकारी हिंदी में

Artificial Intelligence in Hindi : नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सभी लोग आशा करता हूँ कि आप सभी लोग अच्छे होंगे। दोस्तों क्या आप लोग जानतें हैं कि Artificial Intelligence क्या है (What is Artificial Intelligence in Hindi), यदि आप लोग आर्टिफिशल इंटेलिजेंस के बारे में नहीं जानते हैं तो इस लेख को अंत तक पढ़े, जिससे आप सभी को Artificial Intelligence के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।

Artificial Intelligence क्या है

आर्टिफिशल इंटेलिजेंस क्या है – What is Artificial Intelligence in Hindi

Artificial Intelligence का संक्षिप्त नाम AI है। यह कंप्यूटर विज्ञान की एक शाखा है, जो ऐसी मशीन को विकसित कर रही है। जो इंसान की तरह सोच सके और कार्य कर सके। जब हम किसी कंप्यूटर को इस तरह तैयार करतें हैं, कि वह मनुष्य की अक्लमंदी की तरह कार्य कर सके, तो उसे हम Artificial Intelligence कहते हैं। अर्थात् जब हम किसी मशीन में इस तरह के प्रोग्राम सेट करते हैं, कि वह एक मनुष्य की तरह काम कर सके उसे आर्टिफिशल इंटेलिजेंस कहा जाता है।

जहां तक ​​AI की बात है तो जिस तरह से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सीखने की क्षमता बढ़ रही है, ऐसे में कई कॉन्सेप्ट भी सुनने को मिलते हैं। और मानव जाति को मिटा दो। हर जगह बस चलती है। इस बारे में मशहूर बिजनेस Elon Musk ने भी बताया है। लेकिन इसका एक दूसरा पक्ष भी है जहां अच्छे रोबोट हैं जो मानव समाज के साथ मिलकर विकसित होते हैं। तो आने वाले समय में देखते हैं क्या होने वाला है लेकिन आज के दौर में मशीन हमारे लिए कोई वरदान से कम नहीं है।

Artificial Intelligence Meaning in HIndi

आर्टिफिशल इंटेलिजेंस को हिन्दी में “कृत्रिम बुद्धिमत्ता” कहा जाता है। यहाँ कृत्रिम का मतलब है किसी व्यक्ति के द्वारा बनाया गया और बुद्धिमत्ता का मतलब है Intelligence यानि सोचने की शक्ति।

History of Artificial Intelligence

कृत्रिम बुद्धिमत्ता अनुसंधान 1950 में शुरू हुआ। AI के क्षेत्र में अनुसंधान इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर और संग्रहीत प्रोग्राम कंप्यूटर के विकास के साथ शुरू हुआ। इसके बाद भी कई दशकों तक मानव मन की तरह सोचने या कार्य करने के लिए कंप्यूटर से कोई लिंक नहीं जोड़ा जा सका। एक बाद की खोज जिसने AI के शुरुआती विकास को बहुत तेज कर दिया, वह नॉर्बर्ट वीनर (Norbert Wiener) द्वारा बनाई गई थी।

उन्होंने सिद्ध किया कि मनुष्य का सभी बुद्धिमान व्यवहार प्रतिक्रिया तंत्र का परिणाम है। आधुनिक आर्टिफिशल इंटेलिजेंस की दिशा में एक और बड़ा कदम तब आया जब लॉजिक थिओरिस्ट का निर्माण हुआ। इसे 1955 में Newell और Simon द्वारा डिजाइन किया गया पहला आर्टिफिशल इंटेलिजेंस प्रोग्राम माना जा सकता है।

Father of Artificial Intelligence

जब मनुष्य कंप्यूटर सिस्टम के असली ताकत की खोज में था तब उनके दिमाग ने उनको यह सोचने पर मजबूर किया कि क्या एक मशीन भी इंसानों की तरह सोच सकती है इसी सवाल से AI की शुरूआत हुई जिसके पीछे केवल एक ही उद्देश्य था कि केवल एक ऐसा बुद्धिमान मशीन की संरचना की जाये जो कि इंसानों की तरह बुद्धिमान हो और उनके तरह ही सोचने समझने और सिखने की क्षमता रखता हो

1955 में सबसे पहले John McCarthy ने आर्टिफिशल इंटेलिजेंस शब्द का उपयोग किया था वह एक अमेरिकन कंप्यूटर वैज्ञानिक थे जिन्होंने सबसे पहले इस तकनिकी के बारे में सन् 1956 में एक कांफ्रेंस में बताया था इसीलिए उन्हें Father of Artificial Intelligence (John McCarthy) भी कहा जाता है।

Artificial Techniques क्या है?

AI तकनीक एक ऐसी विधि है, जो व्युत्पन्न ज्ञान का उपयोग करती है। जिससे उसकी त्रुटि को सुधारा जा सके। AIतकनीक एक सांख्यिकीय और गणितीय मॉडल के उन्नत रूपों से बना एक मॉडल है। ये मॉडल कंप्यूटर या मशीन के लिए मानव द्वारा किए जाने वाले कार्यों की गणना करना संभव बनाते हैं। कुछ उदाहरण निम्न हैं:

  • Artificial Natural Network
  • Heuristics
  • Markov Decision Process
  • Natural Language Processing.

Types of Artificial Intelligence

आजकल जैसे-जैसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल बढ़ रहा है, वैसे ही कई रूप देखने को मिल रहे हैं जो किसी खास काम को करने के लिए तैयार किए गए हैं। और मैं आपको इनमें से तीन तरह के मॉडल के बारे में बताऊंगा। इनमें कमजोर AI और मजबूत AI आते हैं।

1. Artificial Narrow Intelligence

यदि हम Artificial Narrow Intelligence की बात करें तो इस प्रकार का AI एक खास काम करने के लिए किया जाता है। और कभी-कभी वे जिस क्षेत्र में काम करते हैं उसमें इतनी अच्छी प्रक्रिया करते हैं, वे हमें भी पीछे छोड़ देते हैं। जाने-अनजाने अपने दैनिक जीवन में वे इस तरह के आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल करते रहते हैं। तो आप सोच रहे होंगे कि अगर आपने कोई AI रोबोट ऑर्डर नहीं किया है तो मैं किसकी बात कर रहा हूं।

आपने अपने गूगल पर कुछ सर्च किया होगा उसके बाद आपने देखा होगा कि बाद में अगर आपने अपने लास्ट टाइम में कोई प्रोडक्ट सर्च किया है तो आपको उसी का विज्ञापन मिलने लगता है वो AI की वजह से होता। और आप यह भी जानते होंगे कि एप्पल का श्री भी नैरो इंटेलिजेंस यानी कमजोर एआई का ही एक हिस्सा है। लेकिन ये सब केवल इस हद तक काम करते हैं, आप उन्हें जो भी निर्देश देते हैं। वे वही काम करते हैं लेकिन बाद के स्तरों के लिए यह विफल होने लगता है।

2. Artificial General Intelligence

हम इसे एक मजबूत AI के रूप में देखते हैं, यह वह जगह है जहां रोबोट वह सब कर सकते हैं जो एक इंसान नहीं कर पाएगा। ये चिकित्सा, शिक्षा जैसे क्षेत्रों के लिए बहुत उपयोगी होंगे। वर्तमान में, यह वह नहीं है जो मजबूत AI का प्रतिनिधित्व करता है, लेकिन यह माना जाता है कि हम इस क्षेत्र में बहुत तेजी से काम कर रहे हैं। जिससे हम जल्द ही इसका एक मॉडल ला पाएंगे, यह एक ऐसी मशीन होगी जो इंसान की तरह स्मार्ट होगी।

3. Artificial Super Intelligence

अब बात करते हैं एक काल्पनिक मंच की, जो कई विज्ञान-कथा फिल्मों या आपकी किसी फ्रिक्शन किताबों में पढ़ी होगी, जहां हर जगह रोबोट हैं, हर जगह मशीनें हैं। जो हमें नष्ट कर रहे हैं, यह एक ऐसा समय होगा जब कोई मशीन केवल हमारी नकल नहीं करेगी, बल्कि किसी भी आम इंसान से कहीं ज्यादा बुद्धिमान और सक्षम हो जाएगी। हम वही करेंगे जो मशीन कम में करेगी। और जिस गति से हम इस क्षेत्र में काम कर रहे हैं, उसे होने में ज्यादा समय नहीं लगेगा।

Advantages of Artificial Intelligence

  1. AI, Error को कम करने में हमारी मदद करता है, और अधिक शुद्धता के साथ सटीकता हासिल करने की संभावना बढ़ जाती जाती है।
  2. इसका उपयोग करने से तेजी से निर्णय लेने और जल्दी से कार्य करने में सहायता मिलती है।
  3. मनुष्यों के विपरीत मशीन को लगतार आराम और रिफ्रेशमेंट की जरूरत नहीं होती है, वो लम्बे समय तक काम करने के काबिल होते है और न ही उबते हैं और न ही थकावट महसूस करते हैं।
  4. AI की मदद से संचार, रक्षा, स्वास्थ्य, आपदा प्रबंधन और कृषि आदि क्षेत्रों में बड़ा बदलाव अया सकता है।

Disadvantages of Artificial Intelligence

  • AI के लाभ अभी बहुत स्पष्ट नहीं हैं लेकिन इसके खतरों को लेकर कहा जा सकता है कि AI के आने से सबसे बड़ा नुकसान मनुष्य का ही होगा।
  • विशेषज्ञों का कहना है कि यदि सोचने समझने वाले रोबोट किसी कारण या परिस्थिति में मनुष्यों को अपना दुश्मन मानने लगे तो मानवता के लिए खतरा पैदा हो सकता है।
  • AI के निर्माण के लिए भरी लागत की आवश्यकता होती है।
  • इसमें कोई शक नहीं है कि AI कई सारी नौकरियों को मनुष्यों से छीन रही है जिससे भविष्य में बेरोजगारी की समस्या और भी बढ़ने वाली है।

यह भी जानें: साइकिल का आविष्कार किसने किया

Artificial Intelligence And Our Future

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। हम इंसान धीरे-धीरे ऐसी मशीनों के अभ्यस्त होते जा रहे हैं। अपनी जरूरतों को पूरा करने के प्रयास में हम AI को और भी अधिक शक्तिशाली और अधिक उन्नत बना रहे हैं ताकि यह हमारे सबसे कठिन कार्यों को कर सके। इसके कारण जाने-अनजाने ये मशीनें और भी शक्तिशाली होती जा रही हैं। और उनकी सोचने की शक्ति भी धीरे-धीरे बढ़ती जा रही है ताकि वे किसी भी स्थिति में खुद को ढाल सकें और यह हमारे लिए अच्छी बात नहीं है।

वह दिन दूर नहीं जब वे हमारे आदेशों का पालन भी नहीं करते और अपनी इच्छा के अनुसार काम करते हैं। ऐसे में मानव समाज को काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है। उन्होंने पहले ही हमारे सभी उद्योगों में अपनी जड़ें जमा ली हैं और हम उनके बहुत अभ्यस्त हो गए हैं, जिसके कारण हमें उनके बिना अपना काम करना मुश्किल हो रहा है।

यह सुनने में थोड़ा अजीब लग सकता है लेकिन यह 100% सच है। मेरा मानना ​​है कि भले ही हम अपने जीवन में अच्छे के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल करें, लेकिन हमारे लिए यह ध्यान रखना बहुत जरूरी है कि हमें कुछ चीजों की चाबियां रखनी चाहिए जो हमारे नियंत्रण से बाहर हैं। ताकि समय आने पर हम उसका सदुपयोग कर सकें।

FAQ About Artificial Intelligence

1. Father of AI किसे कहा जाता है?

John McCarthy को Father of AI कहा जाता है।

2. Artificial Intelligence की शुरूआत कब हुई थी?

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की शुरुआत 1950 के दशक में हुई थी।

Final Words

आशा करता कि आप लोगों को मेरा यह लेख  Artificial Intelligence क्या है? और Artificial Intelligence से जुड़ी सभी जानकारी आप लोगों को मिल गयी होगी और यदि आपको सच में लगता है कि Strong AI से मानव समाज को कोई खतरा बन सकता है, तो आप comment करके जरूर बतायें।

Leave a Comment